cover

राम के नाम पर लूट !

 







हुआ यूं कि 2017 में उत्तराखंड में शराब के खिलाफ आंदोलन चला. महिलाएं शराब के दुकान के सामने अड़ कर खड़ी हो गयी. एक नगर में  शराब के दुकान के सामने अड़ कर खड़ी महिलाओं और अन्य लोगों को धमकाने बहुत सारे लोग पहुँच गए. उन्हें शायद शराब से अत्याधिक प्रेम रहा होगा और वे यह बर्दाश्त नहीं कर पा रहे होंगे कि शराब की दुकान उनसे दूर रहे ! इसलिए बल प्रदर्शन का अवसर मिलता तो वे उसके लिए भी तैयार थे !








फिर आया वर्ष 2021. पूरे देश में राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा किया जाने लगा. क्या देखते हैं कि वे राम मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा करने वालों की टोली में भी शामिल है,जो चार साल पहले शराब की दुकान के लिए मरने-मारने को उतारू थे. बोले यह तो धरम का काम है, भाई साहब.” लोगों में आस्था का उफान था और वे भरसक दान दे रहे थे. यह आस्था का उफान दिखाई दे रहा था पर साथ ही कुछ किस्से फिज़ाओं में तैर रहे थे. खुसर-फुसर हुई कि कुछ लोगों ने इसमें भी अपने लिए अवसर ढूंढ लिया है और असली रसीद बुक के साथ कुछ लोकल रसीद बुक भी चल रही है.



ऐसी ही खुसर-फुसर से सचेत हो कर कतिपया धर्मपरायण लोग, जो राम जी के नाम पर सत्ता में पहुंची पार्टी के समर्थक भी थे, उन्होंने सोचा कि लोकल में तो उनका पैसा जाने कहाँ जाये ! सो उन्होंने ऑनलाइन चंदा दिया, कुछ ने तो इक्यावन हजार रुपये जैसी बड़ी रकम तक दी. कुछ ने रकम तो नहीं दी पर इनके ऑनलाइन दान की पर्ची अपनी फेसबुक वाल पर चस्पा कर, इनके हिस्से की बधाई अपने खाते में धर ली !



बहरहाल जिन्होंने ऑनलाइन दान दिया,उन्होंने इसलिए दिया कि उनका दान लोकल में ही शाम को दिव्य पेय-सोमरस के सेवन में हजम न हो जाये !  वह सीधा देव कार्य में काम आए. लेकिन ऊपर तो और बड़े वाले  विराजमान हैं. वे राम नाम पर दो मिनट में दो करोड़ की जमीन अट्ठारह करोड़ में खरीद कर “चंपत” हो लिए ! 







तो भाई रसीद में कटवाओ या कि ऑनलाइन, तुम्हारा तो कटेगा, जाने किस-किस में बंटेगा और बिल रामजी के नाम पर फटेगा !

 कबीर दास जी कह गए हैं :  

राम नाम की लूट है

लूट सके तो लूट


 साधो, जब कबीर ऐसा कह रहे थे तो वे राम के नाम की लूट करने को कह रहे थे, राम के नाम पर लूट करने को नहीं कह रहे थे,बंधु !








साधो,आप तो राम के नाम पर लूट करने लगे भाई ! ऐसी चमत्कारी बुद्धि आपने कहां पायी !!

-इन्द्रेश मैखुरी

Post a Comment

2 Comments

  1. राम नाम की लूट
    😁😁😁😁😁😁

    ReplyDelete
  2. राम नाम की लूट
    😁😁😁😁😁😁

    ReplyDelete